आतंकवाद पर भारत की बड़ी जीत, मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को मिली 11 साल की सजा

मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पाक की एक आतंकवाद रोधी अदालत ने बुधवार को दो मामलों में साढ़े पांच- साढ़े पांच साल की कैद की सजा सुनाई है.

0
74
hafiz saeed

पाकिस्तान पर FATF की तलवार लटकी हुई है. जिस वजह से अब इमरान खान के प्रतिनिधित्व वाले मुल्क को आतंकवाद के मुद्दे पर अंतराष्ट्रीय स्तर पर अलग थलग पड़ने का डर सता रहा है. भारत तो पहले ही पाक से आतंक ख़त्म करने की शर्त पर ही किसी बातचीत को आगे बढ़ाने की बात सख्ती से कह चुका है. इसी कड़ी में मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पाक की एक आतंकवाद रोधी अदालत ने बुधवार को दो मामलों में साढ़े पांच- साढ़े पांच साल की कैद की सजा सुनाई है. प्रतिबंधित संगठन जमात-उद-दावा सरगना को टेरर फंडिंग के दो मामलों में लाहौर की आतंकवाद रोधी अदालत ने सजा सुनाई है. ये सजा दोनों मामलों में सुनाई गई है जो साथ साथ चलेगी. साथ ही इसके अलावा हाफिज पर 15,000 रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है.

कुल 29 मामले हैं दर्ज

हाफिज के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग, आतंकी फंडिंग और अवैध कब्जे के कुल 29 मामले दर्ज हैं. हाफिज के खिलाफ ये कार्रवाई भारत के लिए एक बड़ी जीत मानी जा रही है. दरअसल भारत लगभग 11 सालों से हाफिज को कानूनी कटघरे में लाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहा है. इसके अलावा पाक आतंकवाद के जनक के तौर पर पूरी दुनिया में मशहूर है. पाक को ये डर सता रहा है कि कहीं अगर उसने अब आतंक के आकाओं को पनाह दी तो उसे FATF की काली सूची में जगह मिल जायेगी. जिसके बाद उसकी डूबती अर्थव्यवस्था की नैया को वो खुद भी न पार लगा पायेगा.

ये भी देखें :हाफिज सईद के लिए यूएन में गिड़गिड़ाया पाकिस्तान, मिली बैंक अकाउंट इस्तेमाल करने की इजाजत

आतंक पर भारत और अमेरिका के सुर एक !

संयुक्त राष्ट्र में भारत पल पल आतंक के मुद्दों को जोरों शोरों से उठाता रहता है. इसमें हमेशा उसे अमेरिका का भरपूर साथ मिला है. वो अमेरिका ही था जिसने हाल ही में जमात-उद-दावा चीफ हाफिज के खिलाफ मुकदमा तेज करने की अपील की थी. दिसंबर में हाफ़िज़ और उसके तीन करीबियों के खिलाफ आरोप भी तय किये गए थे जिसका अमेरिका ने तहे दिल से स्वागत किया था. इन तीन करीबियों में  हाफिज अब्दुल सलाम बिन मुहम्मद, मुहम्मद अशरफ और जफर इकबाल का नाम शामिल हैं.

ये भी देखें :अमेरिका ने खोल दी पाकिस्तान की पोल, आतंकियों की भर्ती और फंडिंग रोकने में रहा फेल!

26/11 मुंबई हमले के बाद हाफिज हुआ था ब्लैकलिस्ट

बता दें कि 26 नवंबर 2008 में मुंबई में हुए टेरर अटैक ने पूरी दुनिया में आतंक को लेकर खौफ पैदा कर दिया था. भारत की आर्थिक राजधानी में लश्कर के 10 आतंकियों ने हमला बोला था जिसमें 160 से अधिक लोग अपनी जान गंवा बैठे थे जबकि करीब 300 लोग घायल हो गए थे. आतंकियों ने जिन इलाकों को निशाना बनाया था उसमें मुंबई का सीएसटी रेलवे स्टेशन, मुंबई का फाइव स्टार ताज होटल, ट्राइडेंड होटल सहित अन्य कई जगहें शामिल थीं. मरने वालों में विदेशी नागरिक भी थे. इस घटना के बाद अमेरिका ने हाफिज को ब्लैक लिस्ट कर दिया था और उसपर इनाम घोषित किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here