दिल्ली में हार के बाद BJP में शुरु हुआ मंथन, जेपी नड्डा ने मनोज तिवारी से मांगा जवाब

0
103
Manoj Tiwari, JP Nadda

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में आम आदमी पार्टी की शानदार जीत हुई। दिल्ली की जनता ने अरविंद केजरीवाल के चेहरे पर एक बार फिर से भरोसा जताया और दिल्ली के सत्ता की चाबी उन्हें सौंप दी। AAP पार्टी को 70 विधानसभा सीटों वाली दिल्ली में 62 सीटों पर जीत मिली। वहीं, 8 सीटें बीजेपी के पाले में गई, जबकि कांग्रेस पार्टी का खाता भी नहीं खुला। बीजेपी ने राजधनी के इस चुनाव में बड़ी जोर-शोर से चुनाव प्रचार किया था लेकिन परिणाम उनके उम्मीद से परे आये।

बीजेपी दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने मतगणना के दिन अंतिम समय तक जीत की उम्मीद रखी लेकिन जैसे-जैसे मतगणना अंतिम चरण की ओर जाने लगी वैसे ही धीरे-धीरे मनोज तिवारी के साथ-साथ बीजेपी की उम्मीदें टूटने लगी।

इसे भी पढ़े- Delhi Election Result 2020: दिल्ली में बीजेपी की करारी शिकस्त के 10 महत्वपूर्ण कारण, जानें..

दिल्ली में हार का मंथन

बीजेपी दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा था कि जो भी परिणाम आये, वो उसकी जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार हैं। हालांकि मनोज तिवारी सहित तमाम बीजेपी नेताओं ने केजरीवाल को इस शानदार जीत पर शुभकामनाएं दी है। दिल्ली विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद भारतीय जनता पार्टी का खेमा ऊपर से भले ही शांत दिख रहा है लेकिन अंदर ही अंदर बेचैनी काफी तेज है।

इसे भी पढ़े- 16 फरवरी को रामलीला मैदान में शपथग्रहण समारोह, AAP विधायक बोलें- अब पीएम बनें अरविंद केजरीवाल

इसी बीच बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी से हार के कारणों पर जवाब मांगा है। बताया जा रहा है कि गुरुवार को मनोज तिवारी और पार्टी के संगठन मंत्री बीएल संतोष भी जेपी नड्डा से मुलाकात करेंगे और दिल्ली में हार का मंथन करेंगे।

बीजेपी 8 सीटों पर अटक गई

बता दें, चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी दिल्ली में 45 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा कर रही थी लेकिन बीजेपी दहाई के आंकड़े को भी पार नहीं कर पाई। बीजेपी की गाड़ी 8 सीटों पर अटक गई। मनोज तिवारी ने 48 सीटें जीतने का दावा किया था लेकिन प्रदेश की जनता ने केजरीवाल और आम आदमी पार्टी पर भरोसा जताय।

इसे भी पढ़े- केजरीवाल 3.0 पर सबकी नजर, कुछ मंत्रियों का कट सकता है पत्ता, दिख सकते है ये नए चेहरे

दिल्ली की आम आदमी पार्टी इस चुनाव में प्रदेश की जनता से विकास के मुद्दे पर वोट मांग रही थी वहीं, भारतीय जनता पार्टी के नेता अपने चुनाव प्रचार में राष्ट्रीय मुद्दे और केंद्र सरकार की उपलब्धियों को गिना रहे थे। प्रदेश के क्षेत्रीय मुद्दों को नजरअंदाज करना बीजेपी की सबसे बड़ी भूल साबित हुई और बीजेपी को उसका खामियाजा भुगतना पड़ा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here