पहली बार भारत में पड़ेंगे डोनाल्ड ट्रंप के कदम, इन ट्रेड डीलों पर रहेगी नज़र

24 फरवरी से डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा शुरू हो जायेगी. ट्रंप की पहली भारतीय यात्रा के चलते दोनों देशों के सुप्रीम नेताओं की मीटिंग काफी अहम मानी जा रही है.

0
82
donald trump meeting

24 फरवरी से डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा शुरू हो जायेगी. ट्रंप की पहली भारतीय यात्रा के चलते दोनों देशों के सुप्रीम नेताओं की मीटिंग काफी अहम मानी जा रही है. माना जा रहा है कि इस मुलाकात के दौरान दोनों देश डिफेंस और स्पेस सेक्टर पार्टनरशिप के साथ सीमित व्यापार समझौते पर बने रोडमैप को अंतिम रूप दे सकते हैं. इन महत्वपूर्ण नतीजों में इंटीग्रेटेड एयर डिफेंस वेपन सिस्टम (IADWS) के लिए 1.86 अरब डॉलर की डील भी शामिल हो सकती है. बता दें कि IADWS को नेशनल एडवांस्ड सर्फेस-टू-एयर मिसाइल सिस्टम-II या NASAMS-II के नाम से भी जाना जाता है. ये भी बता दें कि ट्रंप पहले 22 जनवरी को भारत आने वाले थे. लेकिन बाद में कुछ कारणों के वजह से उनका ये दौरा एक महीने के लिए टल गया.

पीएम मोदी ने ट्वीट के जरिये किया वेलकम

ट्रंप के 24-25 फरवरी के होने वाले भारत आगमन का पीएम मोदी ने अपने ट्वीट के जरिये स्वागत किया. उन्होंने लिखा, ‘अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के 24-25 फरवरी को भारत यात्रा पर आने को लेकर बहुत खुश हूं , हमारे माननीय अतिथियों का भव्य स्वागत किया जाएगा. भारत और अमेरिका के मजबूत संबंध न केवल हमारे नागरिकों के लिये बल्कि पूरे विश्व के लिये बेहतर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की भारत यात्रा विशेष है तथा यह भारत, अमेरिका मैत्री को और मजबूत बनाने की दिशा में अहम कदम होगा.’

ये भी देखें :भारत ने फिर ठुकराया ट्रंप का ऑफर, कहा कश्मीर मसले पर नहीं चाहिए तीसरा पक्ष 

विदेश मंत्रालय ने किया एलान

ट्रंप की भारत विजिट का विदेश मंत्रालय ने भी एलान किया है. मंत्रालय ने कहा, ‘अमेरिका के प्रेसिडेंट ट्रंप और फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रंप के साथ 24-25 फरवरी को भारत दौरे पर आएंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की अगुवाई दोनों देशों के संबंध और भी घनिष्ठ हुए हैं. इस दौरान व्यापार, रक्षा, आतंक विरोधी अभियान, ऊर्जा और क्षेत्रीय व वैश्विक मसलों पर आपसी तालमेल जैसे क्षेत्रों में महत्वपूर्ण प्रगति हुई है.’ इसके अलावा अमेरिकी डिफेंस सिक्योरिटी कोऑपरेशन एजेंसी (DSCA) ने पिछले हफ्ते अमेरिकी कांग्रेस को भारत में मिलिट्री हार्डवेयर की बिक्री की संभावना के बारे में नोटिफाई करने के लिए जरूरी सर्टिफिकेशन दिया.

ये भी देखें :डोनाल्ड ट्रंप ने दी ईरान को खुलेआम धमकी, जानें क्यों कहा 52 ठिकानों पर करेंगे हमला ? 

दोनों देशों के बीच कई समझौते होने की संभावना

ट्रंप की भारत यात्रा की योजना पिछले साल दिसंबर में बनी थी. और दोनों पक्षों का इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी एनेक्स (ISA) पर हस्ताक्षर हुआ था. अधिकारियों के मुताबिक ट्रम्प और मोदी की ये मीटिंग काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है. दोनों देशों के बीच ISA समझौता भी काफी अहम है क्योंकि यह संकट के वक्त न केवल सुरक्षित रक्षा संबंधित चैनलों के माध्यम से सूचनाओं को साझा करने की अनुमति देगा, बल्कि इससे दोनों देशों की निजी संस्थाओं के बीच आपसी सहयोग के जरिए मेक इन इंडिया प्रोग्राम को भी बढ़ावा मिलेगा. इससे पहले साल 2015 में अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में बराक ओबामा भारत आये थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here