दहेज की आड़ में फिर बली चढ़ी नवविवाहिता, पुलिस बरत रही है लापरवाही !

0
1241
murder, panipat police station

वैसे तो देश में दहेज देना और लेना दोनों ही कानूनी जुर्म माना जाता है, लेकिन फिर भी कई जगह ये प्रथा थमने का नाम नहीं ले रही है. जिसके चलते शादी के दौरान लड़के के परिवार वाले मुंह खोलकर दहेज की मांग करते हैं. वहीं लड़की के माता-पिता भी अपनी बच्ची का भला सोचते हुए मुंह मांगी कीमत दे देते हैं, लेकिन इसके बाद भी ससुराल वालों की मांग कम होने की बजाए बढ़ती ही जाती है और वो अपनी बहु को दहेज की मांग कर तंग करने लगते हैं. वहीं आज हम आपको एक ऐसे ससुराल वालों का किस्सा बताने जा रहे हैं, जिसे जानने के बाद आप दंग रह जाएंगे और सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि क्या सच में कोई परिवार अपनी बहु के साथ इस तरह का सलूक कर सकता है, तो आइए आपको बताते हैं.

ये मामला पानीपत का है जहां एक 26 वर्षीय युवती को उसके ससुराल वालों ने मौत के घाट उतार दिया. दरअसल मृतक युवती के पिता जितेन्द्र गर्ग ने ये आरोप लगाया है कि उनकी बेटी को शादी के बाद से ही दहेज को लेकर पड़ताड़ित किया जा रहा था. जिसके चलते शादी के करीब 7 महीने बाद ससुराल वालों ने उनकी बेटी कीर्ति गर्ग को फांसी के फंदे पर लटका दिया. जहां इस मामले में जितेन्द्र गर्ग ने अपनी मृतक बेटी के पति, सास, ससुर और ननद पर आरोप लगाया है, वहीं पुलिस ने आरोपी पति और ससुर को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि सास पर अभी तक कोई कारवाई नहीं की गई है और ननद पर पुलिस ने किसी तरह का कोई एक्शन नहीं लिया है.

जितेन्द्र गर्ग ने बताया कि उन्होंने अपनी बेटी कीर्ति की शादी पानीपत के मोडल टाउन में 07 दिसंबर, 2018 को राहुल बिन्दलिस से की थी. उस दौरान उन से 5 लाख खर्च करने की मांग की गई, जबकि उन्होंने शादी में 15 लाख खर्च किए. शादी हो जाने के बाद से ही उनकी बेटी को दहेज के लिए ससुराल वाले तंग करते रहते थे, उस दौरान उनकी मांग पर भी उन्हें 2 लाख रुपये दिए गए, लेकिन ससुराल वाले फिर से गाड़ी की मांग करने लगे. इसके बाद उनकी बेटी को और ज्यादा तंग किया जाने लगा.

मृतक के पिता ने आगे बाताया कि 24 जुलाई की “सुबह मेरी बेटी ने मुझे रोते हुए फोन किया उसने कहा कि पापा मुझे आकर बचा लो मेरे सास-ससुर मुझे मार रहे हैं, ये सुनकर जब मेरी पत्नी और बेटे, बेटी के ससुराल गए तो वहां वो मौजूद नहीं थी और उन्हें घर में भी नहीं जाने दे रहे थे. बेटी की सास ने कहा कि उसे डॉक्टर के पास ले गए हैं, जबकि बाद में पता चला की मेरी बेटी को फांसी के फंदे पर लटका दिया गया है.”

वहीं मृतक के पिता जितेन्द्र गर्ग का ये आरोप है कि थाना मोडल टाउन पानीपत की पुलिस इस मामले में लापरवाही बरततें हुए आरोपी सास को गिरफ्तार नहीं कर रही हैं. उन्होंने बताया कि 07 अगस्त को DSP विजेंद्र सिंह ने थाना में बुलाया गया था, लेकिन वहां पहुंचने पर उनके साथ अधिकारी ने ऐसा व्यवहार किया जा रहा था जैसे उन्होंने खुद ही अपनी बेटी की हत्या कर दी हो. इसके अलावा उनका कहना है कि बेटी की सास और ननद के खिलाफ कोई कड़ा कदम न उठाते हुए सास से सिर्फ पूछताछ करके छोड़ दिया गया.

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here